प्रशासन के सितारे : सुभाष कौशिक


नाम : डॉक्टर सुभाष कौशिक
पद : सहायक निदेशक (शोध और आरईआर), राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद

1) आप किस विभाग में और किस पद पर काम कर रहे हैं? आपके मुख्य कार्य क्या हैं?

मैं राजस्थान स्कूल शिक्षा विभाग जयपुर में सहायक निदेशक (शोध और आरईआर) के पद पर कार्यरत हूँ। मेरा मुख्य कार्य विभिन्न राज्य स्तरीय शोध अध्ययन, नेशनल अचीवमेंट सर्वे, इम्पैक्ट स्टडी एवं राजस्थान एजुकेशन इनिशिएटिव के तहत विभिन्न स्वयं सेवी संगठनों/ कंपनियों के साथ शैक्षिक गुणवत्ता हेतु एमओयू संपादित करवाना और मॉनिटर करना है।

2) अभी तक के सफर में सरकार से जुड़ के काम करने का अनुभव कैसा रहा है?

बहुत अच्छा रहा है परन्तु ऐसा भी अनुभव हुआ है कि सरकारी सिस्टम में पुरूस्कार और दंड की उपयुक्त व्यवस्था अपेक्षित है ताकि उद्देश्य परक परिणाम आ सके और लोग कार्य के प्रति प्रेरित हो सकें।

3) करियर में अभी तक की क्या बड़ी सफलताएं रहीं हैं? एक या दो के बारे में बताईये?

राज्य स्तर पर लीडरशिप सन्दर्भ व्यक्ति के रूप में पहचान
आवंटित काम को समयबृद्ध से पूरे परफेक्शन के साथ करने वाले कार्मिक के रूप में पहचान
प्रभावी शिक्षक के रूप में पहचान

4) इन सफलताओं के रास्ते में क्या कुछ अनोखी मुश्किलें या परिस्तिथियाँ सामने आयी ? इनका समाधान कैसे हुआ ? क्या आप अपने अनुभव से इसके उदाहरण दे सकते हैं?

मुश्किलें सामने आयी जैसे सहकर्मियों द्वारा जानते हुए भी असहयोग करना, उच्चाधिकारियों द्वारा उनके गुणगान करने वालों को महत्त्व देना, और वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सूबोर्डिनेट्स के लिए कठोर भाषा का प्रयोग और क्रोध।
समाधान के तौर पर स्वयं को आवंटित कार्य पूरी निष्ठा और प्रतिबंधता के साथ समय पर पूर्ण करा और साथियों एवं आमजन के साथ संवेदनशील बने रह कर सब के प्रति सदभाव की भावना बनाये रखना।

5) बेहतर शासन और सेवा वितरण में आप अपना योगदान किस प्रकार देखते हैं?

सेवा प्राप्त करता के रूप में स्वयं को रखते हुए समाधान की युक्ति खोजना और तद्नुसार पूर्व प्रतिबंधता के साथ सहयोग करना।

6) अपने काम के किस पहलू से आपको ख़ुशी मिलती है?

यही की आवंटित कार्य को समय पर मैं पारंगतता के साथ कर रहा हूँ और पूरी जवाबदेही के साथ पूर्ण करने में संतुष्ट हूँ। यह साथियों में भी प्रतिष्ठा और सम्मान का कारण बना है।

 

7) अच्छे अधिकारी के 3 ज़रूरी गुण क्या होने चाहिए ?

संवेदनशील और दूसरों के लिए रोल मॉडल
आवंटित कार्य को करने का ज्ञान और प्रतिबद्धता

8) काम से सम्बंधित वह ज़िम्मेदारी जिसमें सबसे ज़्यादा मज़ा आता हो ?

अकादमिक और प्रबंधीय समस्त प्रकार के दायित्व

9) अपने क्षेत्र में कोई ऐसा काम जो आप करना चाहते हो मगर संरचनात्मक या संसाधन की सीमाएँ आपको रोक देती हैं?

ऐसा कोई कार्य नहीं है परन्तु मैं सोचता हूँ कि सामाजिक प्रसन्नता के लिए निम्न व्यवस्था की जानी अपेक्षित है –
समय युक्त और शोषण मुक्त सामाजिक व्यवस्था
भय मुक्त और न्याय युक्त प्रशासकीय व्यवस्था
शिक्षा युक्त और गरीबी मुक्त समाज
इसके लिए राजनितिक और प्रशासनिक इच्छा शक्ति अपेक्षित है।