राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस: 29 जून

प्रतिवर्ष 29 जून के इसी दिन को राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस के रूप में मनाया जाता है| इसी दिन यह उत्सव मनाने की महत्वपूर्ण वजह यह है भी है कि इस दिन भारत में सांख्यिकी के जनक महान भौतिकविद पी.सी. महालनोबिस का जन्म दिवस है और उनका आर्थिक योजना व सांख्यिकी विकास के क्षेत्र में अहम योगदान था।सरकार में भी सांख्यिकी विभाग होता है, जिसका मुख्य उद्देश्य नागरिकों को इस विभाग के महत्व के बारे बताने का है|

चलिए अब औपचारिकताओ को छोड़कर यह जानने की कोशिश करते है कि इस विभाग को हम कितना जानते है|  

सांख्यिकी विभाग करता क्या है 

क्या आपने कभी सोचा है कि कैसे एक सरकारी योजना से कितने लोग लाभान्वित होगे और कितना अमूमन खर्च आएगा और इससे क्या परिवर्तन आएगा राजकोष में और जमीन पर, यह पहले ही अनुमान कैसे लगा लिया जाता है? 

भारत की जीडीपी के विषय में तो आपने बहुत सुना होगा , देश एवं राज्य जीडीपी का आंकलन यही विभाग करता है| देश और राज्यों की आर्थिक स्थिति , वहां रहने वाले व्यक्तियों का विकास सूचकांक , हमारी जनसँख्या , साक्षरता आदि कई सारे सर्वेक्षण की गणना भी इसी विभाग के जिम्मे है| 

इन्ही सब गणनाओ के आधार पर यह विभाग वास्तविकताओ से रूबरू करवाता है |

सारी सूचनाओं को सारगर्भित किया जाए तो यह कह सकते है कि इसी विभाग के आंकड़ो पर हमारे देश और राज्यों के द्वारा महत्वपूर्ण विकास योजनाये बुनी जाती है और उनका प्रभाव तय किया जाता है|

चलिए इनके काम को थोडा बारीकी से देखते है:

सांख्यिकी विभाग को आंकड़ो का जादूगर भी कहते है| यह सभी विभागों की रीढ़ की हड्डी के रूप में काम करता है| 

केंद्र स्तर पर इसका स्वतंत्र सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय है, जो सांख्यिकीय विश्लेषणों पर भारत सरकार के मंत्रालयों/विभागों को सलाह देता है| इसके साथ ही रोजगार, उपभोक्ता व्यय, पर्यावरण, साक्षरता स्तर, स्वास्थ्य पोषणाहार, परिवार कल्याण आदि पर आवश्यक आंकड़े तैयार करने हेतु बड़े पैमाने पर अखिल भारतीय नमूना सर्वेक्षणों का आयोजन करता है| अंतर्राष्ट्रीय सांख्यिकीय संगठनों के साथ आंकड़ो को भी साझा करता रहता है|

विभाग के विस्तृत कार्य सुचना के लिए आप इसकी वेबसाइट पर भी आप जा सकते है|

राज्य स्त पर भी सांख्यिकी निदेशालय का गठन किया गया है| जहाँ ये विभाग राज्य से सम्बन्धित आंकड़ो का आकलन करता है | जैसे- राज्य की आर्थिक स्थिति का आकालन, Wholesale Price Index (WPI),आर्थिक जनगणना जैसे विभिन्न सर्वे तथा कृषि क्षेत्र में फसलो के प्रकार, स्थिति, अनुमानित पैदावार, सकल राज्य घरेलू उत्पाद और प्रति व्यक्ति आयआदि की गणना करता है 

विभाग के आंकड़े चूँकि निति निर्माण, आयोजना , चुने हुए प्रतिनिधियो को उनके काम के क्रियान्वन, शोध संस्थानों, अन्य कार्यरत संस्थाए एवं विभाग आदि को उनके कार्य बहुत उपयोगी है | इसलिए इन डेटा का विभाग समय-समय पर प्रकाशन भी करता है| इनके कार्यो को आप राज्यों की सांख्यिकी वेबसाइट के माध्यम से भी विस्तृत रूप से देख सकते है|

हमारे कितना काम का यह विभाग

किसी भी सिविल सेवी संस्थाओं के लिए जहाँ वे काम कर रही है अथवा करना चाह रही हैं, वहाँ की परिस्थिति के आंकड़ो का ज्ञान होना उसके काम को और मज़बूती  देता है| मसलन आप शिक्षा पर काम रहे हो तो वहां की साक्षरता दर कितनी है, कितने विधालय एवं शिक्षक है,आंगनबाड़ी कितनी है, कितने एनरोलमेंट है , क्षेत्र की कुल जनसंख्या लिंगानुपात,जन्म-मृत्यु दर एवं  पंजिकरण आदि की स्थिति क्या है| 

अथवा मान लीजिये आप कृषक कल्याण हेतु निरंतर प्रयासरत है तो , कितनी प्रकार की फसले एवं कोनसी फसले यहाँ होती है,प्राक्रतिक नुकसान, स्थानीय आर्थिक स्थिति ,आदि कई महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी यहाँ मिल जाएगी जो की आपकी कार्यो में सहजता ला सकती है | इतना ही नही आप यहाँ पशु-पालन, पशु गणना, घरेलू एवं कृषि तथा व्यावसायिक विद्युत कनेक्शन, राशन डीलर, पेट्रोल पंप, अन्य विभाग में नियोजित कर्मचारीयो की संख्या एवं हमारे संसद  एवं विधायक द्वारा उनके कोष से खर्च राशि की भी जानकारी आपको यहाँ मिल जायेगी |

इसके अलावाभी कई प्रकार महत्वपूर्ण आंकड़ो के लिए आप सांख्यिकी विभाग के पास जा सकते है|

कहाँ मिल सकती है जानकारी 

  • अपने नज़दीकी  ब्लॉक स्तर पर ब्लॉक सांख्यिकी कार्यालय पर ब्लॉक सांख्यिकी अधिकारी(BSO) से ये सूचना प्राप्त की जा सकती है| 
  • इसके अलावा सम्पूर्ण जिले के लिए ज़िला सांख्यिकी कार्यालय है जहाँ सहायक निदेशक(AD) होते है| जहाँ से ज़िले एवं ब्लॉक के वार्षिक प्रकाशन के माध्यम से भी सूचनाएं ले सकते है| राज्य एवं सम्भाग स्तर की भी सूचनाएं भी वहां स्थापित कार्यालय से ली जा सकती है| 
  • इसके अलावा आपको किसी विशेष प्रकाशन की आवश्यकता है तो डाक द्वारा भी मंगवा सकते है| जिसकी जानकारी आपको नज़दीकी कार्यालय में मिल जाएगी| 

तो अब आप को भी जब भी आंकड़ो से संबंधित सूचनाओ की आवश्यकता हो एक बार सांख्यिकी विभाग के कार्यालयों का रुख जरुर करे , शायद आपको सटीक और जल्दी से सूचनाये मिल जाए और अगली बार के लिए इस विभाग का जब भी उत्सव हो इसके योगदान को पक्का याद करना |