राज्य दर्पण: बदलती नीतियों में हम (बिहार, फ़रवरी 2020)

अलग-अलग राज्यों से जानिये कि सामाजिक क्षेत्र मैं कौन से अहम् नीति सम्बंधित फैसले लिए जा रहे हैं, और इनका हम जैसे नागरिकों के जीवन पर क्या असर पड़ेगा।

वितीय प्रबन्धन लाने के लिए सीएफएमएस (सेन्ट्रल फण्ड मैनेजमेंट सिस्टम CFMS ) प्रणाली हुई लागू
  • बिहार सरकार  लेंन–देन की प्रकिया में पारदर्शिता लाने के लिए सभी वितीय कार्य अब ऑनलाइन करी जाएगी ,1 अप्रैल 2019 से CFMS की शुरुआत करी गई है | 
  • CFMS वितीय प्रबन्धन का एक तरीका है जिसमे सॉफ्टवेयर की सहायता से विभाग और संगठन अपनी आय –व्यय और सम्पति का प्रबन्धन करेंगे | इस  व्यवस्था के लागु होने से वित् विभाग सारी जानकारी समय पर उपलब्ध होगी |
  • सोफ्टवेयर से महालेखाकार कार्यालय और रिजर्व बैंक को भी जोड़ा गया है | ई –बिलिग़ की शुरुआत भी हो गई है | इस व्यवस्था से योजना के लिए दी जाने वाली राशी और खर्च में पादर्शिता होगी |
विद्यालय प्रबन्धन समिति का गठन सुनिश्चित करने को कहा गया 
  • राज्य के सभी जिला पधाधिकारी ( DEO ) को आदेश दिया गया है कि अपने –अपने जिले के सभी राजकीयकृत हाईस्कूलों में विधालय प्रबन्धन समिति का गठन सुनिश्चित करे | 
  • विधालय प्रबन्धन समिति गठित कर उसकी नियमित बैठक कराने और उसमे सभी विकास कार्यो पर निर्णय लेने का अधिकार है | 
  • समिति के जिम्मे है महती कार्य :- विधालय प्रबन्धन समिति दौरा विधालय कोष की राशी के व्यय पर निर्णय, छात्र कोष सम्बंधित लेखा –जोखा विधालय प्रबन्धन समिति के दौरा अनुमोदित होना है |विधालय के विकास कार्य सबंधित योजना ,राशी आदि की स्वीकृति विधालय प्रबन्धन समिति दौरा ही की जाती है |
1 फ़रवरी से अब बिहार के विधालयो में मिड –डे मील में बच्चों को मिलेगा दूध
  • बिहार सरकार ने बिहार के प्रारम्भिक विधालयो में नई पहल की शुरुआत करी है। इसके तहत विधालय में मिड –डे –मील में दुध दिया जायेगा |
  • यह 1 फेबुअरी 2020 से आरम्भ मुजफ्फरपुर जिले से करी गयी, उन क्षेत्रों में जहाँ बच्चे इंसेफ्लइटीस से सबसे अधिक प्रभावित हुए प्रखंड – बोचहाँ ,मीणापुर ,सर्रिय , मुशहरी और काँटी प्रखंड में की गई है | 
  • बच्चों को 150ml दूध का पाउडर मिलेगा |
  • इसके बाद जब केंद्र सरकार से दूसरी क़िस्त मिलेगी तब – नालंदा ,पूर्वी चम्पारण , बेगुसराय , सुपौल , बक्सर ,विअशाली और शिवहर में भी वितरण किया जायेगा |