‘बिहार पंचायती राज चुनाव’ सीरीज़

‘हम और हमारी सरकार’ वेबसाइट के माध्यम से हम अपने पाठकों के लिए विभिन्न तरह की महत्वपूर्ण पाठन सामग्रियों को साझा करते रहते हैं। बिहार में पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव शुरू होने जा रहे हैं अतः पंचायत सीरीज़ के अंतर्गत हम आपके लिए इन चुनावों से जुड़ी ऐसी महत्वपूर्ण जानकारियां साझा करते रहेंगे, जिनका सीधे तौर पर आपसे सरोकार रहेगा।

बिहार में पहले चरण के पंचायत चुनाव का प्रचार आज शाम पांच बजे को थम चुका है। पहले चरण के चुनाव को लेकर 24 सितंबर को मतदान होगा। बिहार में 24 सितंबर से 12 दिसंबर के बीच 11 चरणों में पंचायत चुनाव होंगे। ऐसे में बिहार निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव के मद्देनजर रखते हुए कुछ दिशा निर्देश जारी किये हैं।
तो, चलिए विस्तार से जानते हैं कि इन पंचायती राज चुनावों के लिए किस तरह के नियम तय किये गए हैं:

 मतदान कर्मियों के साथ मतदाताओं के लिए भी सभी चुनाव बूथों पर पानी, साबुन, सेनेटाइज़र इत्यादि की व्यवस्था किए जाने के निर्देश दिए गए हैं।
 पंचायत चुनाव में सभी मतदानकर्मियों को मॉस्क, सेनेटाइज़र, फेसशील्ड पहनना अनिवार्य किया गया है।
 55 वर्ष से अधिक आयु के कर्मचारियों की चुनाव में डयूटी नहीं लगेगी, इसके अलावा गंभीर रोग से ग्रसित, गर्भवती महिलाओं और दिव्यांग कर्मचारियों की नियुक्ति ग्राम पंचायत चुनाव में नही की जायेगी।
 मतदान के समय मतदाताओं को सामाजिक दूरी का पालन करना तथा मास्क पहनना अनिवार्य होगा।
 संबंधित प्रखंड के किसी भी पंचायत का मतदाता उस प्रखंड के दूसरे पंचायत से भी मुखिया पद के लिए चुनाव लड़ सकेगा।
 सरपंच व पंचायत समिति सदस्य के पद के लिए भी संबंधित प्रखंड का मतदाता होना अनिवार्य होगा। जिला परिषद की सीटों के लिए जिले का मतदाता होना, संबंधित प्रत्याशी के लिए अनिवार्य होगा।
 पंचायत चुनाव में एक व्यक्ति एक से अधिक पद के लिए भी चुनाव लड़ सकता है।
 जिला परिषद सदस्य का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों को 1 लाख रुपये तक खर्च की छूट दी गई है। मुखिया और सरपंच उम्मीदवार 40 हजार रुपये खर्च कर सकते हैं। पंचायत समिति सदस्य को 30 हजार और ग्राम पंचायत सदस्य और पंच को 20 हजार खर्च करने की छूट दी गई है।
 चुनाव प्रचार के दौरान ग्राम पंचायत के सदस्य, पंच पद के कैंडिडेट एक बाइक से प्रचार कर पाएंगे। मुखिया, सरपंच, पंचायत समिति के सदस्य पद के उम्मीदवार 2 बाइक या 1 हल्के मोटर वाहन से प्रचार कर पाएंगे। जिला परिषद के सदस्य पद के प्रत्याशी 4 बाइक या 2 हल्की गाड़ियों से कैंपेन कर सकेंगे।
 यदि वोटर मतदान केंद्र से सम्बंधित कोई सुझाव अथवा शिकायत करना चाहते हैं तो आयोग द्वारा उसके लिए प्रावधान किया गया है।
निर्वाचन आयोग ने मतदाताओं की सुविधा के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। हेल्पलाइन नंबर 18003 457 243 पर चुनाव से जुड़े सुझाव या शिकायतें दर्ज करवा सकते हैं।

‘बिहार पंचायत सीरीज़’ के अगले भाग में हम पंचायत प्रतिनिधियों की भूमिका तथा नागरिकों के लिए उनके दायित्वों के बारे में बात करेंगे!