प्रशासन के सितारे : रतिश कुमार झा

नाम : रतिश कुमार झा
पद : जिला शिक्षा पदाधिकारी, पूर्णिया, बिहार

1)आप अभी किस विभाग में और किस पद पे काम कर रहे हैं? आपका मुख्य कार्य क्या हैं? 

 मैं अभी बिहार शिक्षा परियोजना में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी के पद कार्यरत पर हूँ परन्तु मुझे जिला शिक्षा पदाधिकारी का प्रभार मिला है इसीलिए मुझे दोनों पद का काम करना पड़ रहा है |

मेरे मुख्य काम हैं प्राथमिक ,मध्य व उच्च विद्यालयों का Supervision, monitoring और co-ordination करना है ताकि विद्यालय अच्छे से चलता रहे कहीं कोई परेशानी ना हो |अभी तक 12 जिलों में DEO के पद पर काम कर चुका हूँ |

2) अभी तक के सफर में सरकार से जुड़के काम करने का अनुभव कैसा रहा है ?  

कुछ अच्छे अनुभव भी हैं और कुछ बुरे अनुभव भी हैं तो पहले अच्छे अनुभव की बात करते हैं कुछ जिले जैसे भोजपुर ,भभुआ ,बक्सर इत्यादि में मुझे बहुत इज्जत मिला ,बहुत सम्मान मिला ,लोगों का सपोर्ट भी बहुत बढ़िया मिला |

अब बात करते हैं बुरे अनुभव की, तो सुपौल ऐसा जिला है जहाँ की मुझे बहुत परेशानीयों का सामना करना पड़ा, यहाँ के लोगों ने बहुत ही परेशान किया | यहाँ के लोगों में काम करने की इच्छा शक्ति की कमी थी जिस कारण मुझे बार – बार स्पष्टीकरण निकलना पड़ता था |

3) करियर में अभी तक की क्या बड़ी सफलताएं रहीं हैं? एक या दो के बारे में बताईये?      

मेरे लिए अपने इस करियर में अभी तक की सबसे बड़ी सफलता यह रही है मुझे तिन जिला (बक्सर ,सुपौल,बेगुसराई)में मेरे काम के बेहतर परफोर्म करने के कारण मुझे अच्छे कार्य करने को लेकर मुझे राज्य से प्रसस्ती प्रपत्र मिला |

4)इन सफलताओं के रास्ते में क्या कुछ अनोखी मुश्किलें या परिस्तिथियाँ सामने आयी ? इनका समाधान कैसे हुआ ? क्या आप अपने अनुभव से इसके उदाहरण दे सकते हैं?                        

ज़िला भभुआ के एक विद्यालय में एक शिक्षक बहुत दिनों से अपने विद्यालय में नही आ रहे थे | मेरे पास एक ग्रामीण शिकायत ले कर आये तब मैं उस विद्यालय में जाकर खुद से निरिक्षण किया तो सही पाया | इसके बाद मैंने मंथली बैठक में मैंने इसकी सूचना DM को दिया, तो DM ने तुरंत इस्पे एक्शन लेने के लिए बोले | तब मैंने तुरंत एक्शन लिया, उस शिक्षक ऊपर एक स्पष्टीकरण  निकाला तब जाकर वह रेगुलर विद्यालय आने लगा | 

5)बेहतर शासन और सेवा वितरण में आप अपना योगदान किस प्रकार देखते हैं?           

बेहतर शासन और सेवा वितरण में, मैं सबसे पहले यह देखता हूँ कि नियम के अनुसार, मैं किसी के लिए क्या कर सकता हूँ और इस काम से किस –किस की भलाई है |जैसे, मैं आज तक किसी भी शिक्षक का वेतन नही रोका हूँ बल्कि उसे मोटीवेट करके काम पे लाता हूँ और अगर उसकी कोई गंभीर समस्या है तो उसकी मदद करता हूँ | 

 6) अपने काम के किस पहलू से आपको ख़ुशी मिलती है?                                        

 जब कोई challenging काम होता है और उसमे मुझे सफलता मिल जाती है तो दिल से मुझे ख़ुशी मिलती है |

7) i) अच्छे अधिकारी के 3 ज़रूरी गुण ?                                                             

1.प्लान करना  2. प्राथमिकता तय करना  3 लक्ष्य पर टिके रहना

ii) काम से सम्बंधित वह ज़िम्मेदारी जिसमे सबसे ज़्यादा मज़ा आता हो?

अनुश्रवन के दौरान जब कोई शिक्षक दिल से अपने वर्ग में पढ़ा रहा होता है |

iii) अपने क्षेत्र में कोई ऐसा काम जो आप करना चाहते हो मगर संरचनात्मक या संसाधन की सीमाएँ आपको रोक देती हैं?

मैं बच्चों की गुणवत्ता के ऊपर काम करना चाहता हूँ पर बहुत सारी चीजें नही कर पाता हूँ क्योंकि कोई भी काम जब तक  line-up करता हूँ,  तब तक मेरा ट्रान्सफर हो जाता है |